Friday, 1 June 2012

याद आती हैं वो स्कूल की बातें

                                                                           
याद आती हैं वो स्कूल की बातें
वो खट्टी-मिठ्ठी यादें
वो बच्चों संग बिताई हसीन मुलाकातें
वो पंछी की-सी उड़ान भरना
बच्चों संग खेलना
इधर-उधर झूमना

ड़ा प्रीत अरोड़ा

3 comments:

  1. phir se baccha ban jaane ki man me uthti hui umang......

    ReplyDelete
  2. Apki is sachitr kavita se Yad aa gya bachpan

    ReplyDelete