Friday, 7 September 2012

रिश्ता हमारा

                                   तुम दीपक हो
                                  मैं बाती हूँ
                               तुम शमा हो
                               मैं परवाना हूँ
                              तुम सूरज हो
                              मैं किरण हूँ
                            तुम चाँद हो
                            मैं चकोर हूँ
                           तुम फूल हो
                           मैं भवरा हूँ
                        तुम मछली हो
                         मैं जाल हूँ
                         तुम गीत हो
                       मैं साज हूँ
                       तुम कवि हो
                        मैं काव्य हूँ
                      जब हाथों में हाथ है
                   जन्म-जन्म का साथ है
                     डॉ.प्रीत अरोड़ा



12 comments:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ...............ब्लॉग की रूप रेखा अति सुन्दर .......................जब हाथों में हाथ है
    जन्म-जन्म का साथ है

    ReplyDelete
  2. सुंदर रचना अच्‍छा लगा आपके ब्‍लॉग पर आकर....आपकी रचनाएं पढकर और आपकी भवनाओं से जुडकर....

    ReplyDelete
  3. अच्छी रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  4. बहुत प्यारी रचना

    ReplyDelete
  5. तुम लिखती हो
    मैं पढ़ती हूँ....
    जन्म जन्म का साथ है......
    :-)

    अनु

    ReplyDelete
  6. ये साथ यूँ ही कायम रहे ......बहुत खूब

    ReplyDelete
  7. bhut khub kaha di ji ye sath aapka sda kayam rahe, kagaj , kalam or aap sada yu hi diya - bati sa , kavi-kavy sa, hatho se hath ka v janm se jnmantar ka sath nibhae .........aamin.

    ReplyDelete